Play Bhajan
 
 
 
 

 
 

Welcome to www.bhagwanparashuram.com

   
Bhagwan Parshuram (परशुराम)
, the Eternal Avatar, appears again and again when the planet is in great danger. Parashurama Bhargava or Parasurama (Axe-wielding Rama), according to Hindu mythology is the Sixth avatara of Lord Vishnu (विष्णु), belongs to the Treta yuga, and is the son of Jamadagni. Parashu means axe, hence his name literally means Rama-with-the-axe.

 

भगवान परशुराम जी की आरती

कर्पूर गौरं करूणावतारं संसार सारं भुजग्रेहन्द्र हारं
सदा वसन्तम् हृदयारविन्दे भवं भवामी सहितं नमामी ।
जय परशुराम देवा प्रभु जय परशुराम देवा |
भृगुकुल कमल दिवाकर जग करता सेवा ||
ब्रह्म वेश तेजस्वी हरी अवतारी |
प्रथ्वीभार उतारन , चतुर कला धारी ||
तिलक त्रिपुंड सुसोभित दिव्य जटा धारी |
गाल रुद्राक्षीकंठा , लागत छवि प्यारी ||
गौर शरीर पर भस्मी , अनुपम मनहारी |
कर में परशुराम विराजत अथ - अभर्व हारी ||
सहसबाहु भुज खंडन , मंडन सुख करी |
प्रभु नैष्ठिक- ब्रहमचारी - मुनिजन अविकारी ||
विजय राज्य कश्यप को , बहु विधि दान कियो |
अस्वमेघ योजना कर , पावन नाम कियो ||
गिरी महेंद्र में शोभित , नाना रूप धरो |
जो श्रधा से ध्याता , उनके काज सरे ||
भृगुकुल राम की आरती , जो कोई नर गावे |
सुन्दर सुखद निरामय , निश्चय पद पावे ||
जय परशुराम देवा प्रभु जय परशुराम देवा |
भृगुकुल कमल दिवाकर जग करता सेवा ||
जय परशुराम देवा प्रभु जय परशुराम देवा |

 


 

copyright : www.bhagwanparashuram.com 2011